Bhagvati Bharat Mata - Patriotic

    • Bhagvati Bharat Mata
    • Genre: Patriotic
    • Language: Hindi






         कितने ही युग से हे जननी

        कितने ही युग से हे जननी जग तेरे यश गाता।

        भगवति भारत माता॥


        हिमाच्छन्न तव मुकुट अडिग गभ्भीर समाधि लगाये ।

        तपस्वियों को मनः स्थैर्य का मर्म सदा सिखलाये॥

        उदधि कृतार्थ हो रहा तेरे चरणों को धो-धोकर

        रचा विधाता ने क्योंकर है स्वर्ग अलौकिक भूपर।

        सत्य तथा शिव भी सुन्दर भी महिमा तुमसे पाता

        भगवति भारत माता॥


        धार हलों की सहकार भी माँ दिया अन्न और जल है

        निर्मित तेरे ही रजकण से यह शरीर है बल है।

        ज्ञान और विज्ञान तुम्हारे चरणो में नत शिर है

        जीव सृष्टी की जिसके हित धारते देह फिर फिर है।

        मुक्ति मार्ग पाने को तेरी गोदी में जो आता

        भगवति भारत माता॥२॥


        ऋषि मुनि ज्ञानी दृष्टा ओं वीरों की जननी तू

        माता जिनके अतुल त्याग की आदर्श धनी तू।

        जीवों के हित जीवन को भी तुच्छ जिन्होंने माना

        निज स्वरुप में भी जगती के कण-कण को पहिचाना।

        जग से लिया नहीं तूने जग रहा तुम्हीं से पाता

        भगवति भारत माता॥३॥





        English Transliteration:-


        kitane hī yuga se he jananī

        kitane hī yuga se he jananī jaga tere yaśa gātā |

        bhagavati bhārata mātā ||


        himācchanna tava mukuṭa aḍiga gabhbhīra samādhi lagāye |

        tapasviyoṁ ko manaḥ sthairya kā marma sadā sikhalāye ||

        udadhi kṛtārtha ho rahā tere caraṇoṁ ko dho-dhokara

        racā vidhātā ne kyoṁkara hai svarga alaukika bhūpara |

        satya tathā śiva bhī sundara bhī mahimā tumase pātā

        bhagavati bhārata mātā ||


        dhāra haloṁ kī sahakāra bhī mā diyā anna aura jala hai

        nirmita tere hī rajakaṇa se yaha śarīra hai bala hai|

        jñāna aura vijñāna tumhāre caraṇo meṁ nata śira hai

        jīva sṛṣṭī kī jisake hita dhārate deha phira phira hai|

        mukti mārga pāne ko terī godī meṁ jo ātā

        bhagavati bhārata mātā ||2 ||


        ṛṣi muni jñānī dṛṣṭā oṁ vīroṁ kī jananī tū

        mātā jinake atula tyāga kī ādarśa dhanī tū |

        jīvoṁ ke hita jīvana ko bhī tuccha jinhoṁne mānā

        nija svarupa meṁ bhī jagatī ke kaṇa-kaṇa ko pahicānā|

        jaga se liyā nahīṁ tūne jaga rahā tumhīṁ se pātā

        bhagavati bhārata mātā ||3 ||

        Post a comment

        0 Comments